blogid : 11280 postid : 478

अब प्यार से ज्यादा ब्रेकअप में मजा आता है !!

Posted On: 30 Apr, 2013 मस्ती मालगाड़ी में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

एक समय ऐसा था जब दो दिलों का मिलना ही किसी के भी दिल को राहत दिया करता था पर अब जब तक किसी का दिल टूट ना जाए या फिर एक प्रेमी जोड़े में से कोई एक मर ना जाए तब तक लोगों को राहत नहीं मिलती है. हां, यहां हिन्दी सिनेमा के उस समय की बात हो रही है जब अधिकांश फिल्मों के अंत में दो दिलों को मिलता हुआ दिखाया जाता था पर आज जरूरी नहीं की फिल्म के अंत में दिल मिलें ही. आज फिल्म की कहानी का अंत कुछ इस तरह का होता है कि प्रेमी या प्रेमिका में से कोई एक मौत को गला लगा लेता है या फिर एक, दूसरे की याद में पागल हो जाता है. फिल्म का ऐसा एंड देखने के बाद दर्शक फिल्म को बॉक्स ऑफिस पर सुपरहिट करा देते हैं.

Read:एक एमएमएस के कारण प्रेमी ने साथ छोड़ दिया !!


चलिए हम आपको ‘आशिकी’ फिल्म के उस समय में ले चलते हैं जब एक प्रेमी जोड़ा एक-दूसरे के लिए अपने कॅरियर को भी छोड़ने के लिए तैयार हो जाते हैं और कहानी के अंत से पहले प्रेमिका प्रेमी से इसलिए दूर हो जाती है क्योंकि उसे अपने प्रेमी का कॅरियर बनाना होता है पर कहानी के अंत में दोनों एक-दूसरे से हमेशा के लिए मिल जाते हैं. अब आप ‘आशिकी 2’ फिल्म की कहानी पर एक नजर डालिए. प्रेमी-प्रेमिका एक-दूसरे से प्यार करने लगते हैं और प्यार का नशा प्रेमी पर कुछ इस कदर होता है कि वो अपनी प्रेमिका का कॅरियर बनाने के लिए सारी हदें पार कर जाता है. जिस गति से प्रेमिका को कामयाबी मिलती जाती है, प्रेमी उसी रफ्तार से बर्बादी की तरफ बढ़ता रहता है. यहां तक कि लोग उसकी नाकामयाबी पर ताने देना शुरू कर देते हैं. अंत में जाकर प्रेमी प्रेमिका के लिए आत्महत्या कर लेता है.

Read:एक लड़की को पटाने के लिए इन्होंने तमाम कोशिश की !!


ऐसा नहीं है कि आज की फिल्मों में पहले की फिल्मों की तरह क्लासिकल ऑन स्क्रीन रोमांस नहीं होता है पर फिर भी आज लव स्टोरी पर आधारित फिल्मों का निर्देशन कुछ इस तरह से किया जाता है जैसे दर्शकों को प्रेमी जोड़ों का ब्रेकअप देखने में आनंद की प्राप्ति होती हो. कुछ ही समय पहले ऐसी फिल्में भी आई हैं जिनमें प्रेमी, प्रेमिका को दुख पहुंचाकर उसे प्यार करता है और फिल्म की कहानी के शुरू से अंत तक प्रेमी-प्रेमिका को दुख ही देता है फिर अंत में जाकर प्यार का इजहार करता है और प्रेमिका प्यार के इजहार का जवाब ‘हां’ में ही देती है. ऐसी लव स्टोरी का बड़ा उदाहरण इंकार फिल्म है. यदि आप ‘इंकार’ फिल्म को सालों पहले आई ‘डर’ फिल्म से तुलना करके देखें तो आपको इस बात का अंदाजा हो जाएगा कि कैसे आज फिल्मों में निर्देशक रोमांस के साथ-साथ सस्पेन्स को पैदा करते हैं और फिर अपनी बुनी हुई कहानी के लिए समाज के चलन को जिम्मेदार बता देते हैं. सिनेमाघरों में फिल्म देखने आए दर्शक भी रोमांस, सस्पेन्स और ब्रेकअप इन तीन शब्दों के इर्द-गिर्द ही फिल्म की कहानी का आनंद लेने लगते हैं.

Read:राजेश खन्ना के साथ के बाद भी अधूरी ही रहीं !!


Tags: Love And Breakup, Love And Marriage, New Life After Breakup, Movies Breakup, 100 Years Of Indian Cinema,New Life Style, Direction Style, Bollywood Style, Bollywood Movies Style, प्यार ब्रेकअप, ऑन स्क्रीन रोमांस , फिल्म निर्देशन, बॉलीवुड फिल्म, आशिकी, आशिकी2, प्रेमी, प्रेमिका



Tags:                                   

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

raj kumar के द्वारा
April 30, 2013

Gulaab Aankhen Sharab Aankhen, Yehi To Hen Lajawab Aankhen, Inhi Men Ulfat Inhi Men Nafrat, Sawaab Aankhen Azaab Aankhen, … Kbhi Nazar Men Bala Ki Shokhi, Kabhi Sarapa Hijaab Aankhen, Kbhi Chupati Hen Raaz Dil K, Kbhi Hen Dil Ki Kitaab Aankhen, Kisi Ne Dekhi To Jheel Jesi, Kisi Ne Payeen Saraab Aankhen, Wo Aaye To Log Mujh Se Bole, Huzoor Aankhen, Janab Aankhen, Ajeeb Tha Guftugu Ka Aalam, Sawal Koi Jawab Aankhen, Ye Mast Mast Be-Misaal Aankhen, Nashe Se Her Dam Nidhal Aankhen, Uthen To Hosh-o-Hawas Chenein, Giren To Ker Den Kamaal Aankhen, Koi Hy In K Karam Ka Talib, Kisi Ka Shok-e-Wisal Aankhen, Na Yun Jalayen Na Yun Satayen, Kren To Kch Ye Khayal Aankhen, Hy Jeney Ka Ik Bahana Yaro, Ye Rooh Parwar Jamal Aankhen, Draaz Palken Wisaal Aankhen, Musawwari Ka Kamal Aankhen, Sharab RAB Ne Haram Kr Di, Mgr Q Rakhi YE Halal Aankhen, Hazaron In Se Qatal Huwey Hen, KHUDA K Bandey Sambhal Aankhen.


topic of the week



latest from jagran